CMOS का फुल फॉर्म | CMOS full form in hindi

आज के इस पोस्ट में हम आपको CMOS के बारे में बताने वाले है और साथ में आपको CMOS full form in hindi में बताएंगे और अगर आप कंप्यूटर फील्ड में इंटर्स्ट रखते हैं तो ये पोस्ट आपके जरूर काम आएगा ।

CMOS एक चिप होता हैं जिसमे सॉफ्टवेयर स्टोर रहता हैं और ये कंप्यूटर के मदरबोर्ड में पाया जाता है , CMOS में जो सॉफ्टवेयर स्टोर रहता है उसे हम BIOS कहते हैं ।

तो चलिए CMOS के बारे में डिटेल में समझ लेते हैं और जानते हैं की CMOS क्या होता है (CMOS meaning in hindi), CMOS कैसे काम करता हैं और CMOS का फुल फॉर्म क्या होता हैं ।


cmos meaning in hindi , cmos full form in hindi,cmos in hindi,cmos battery in hindi

CMOS full form in hindi

CMOS का फुल फॉर्म Complementary Metal Oxide Semiconductor होता हैं ।

CMOS क्या होता हैं ?

CMOS कंप्यूटर की एक छोटी चिप होती हैं जिसका साइज लगभग 256 बाइट्स होता हैं ।

CMOS में BIOS की सारी सेटिंग स्टोर रहती हैं और सिस्टम की सारी डिस्क , ड्राइव भी इसमें इंस्टॉल रहती हैं।

CMOS में कंप्यूटर के टाइम डेट और कुछ हार्डवेयर सेटिंग भी स्टोर रहती हैं , इसे हम एक छोटा RAM भी कह सकते हैं जिसमे BIOS के सभी इनफॉर्मेशन रहते हैं ताकि जब भी कंप्यूटर को हम पावर ऑफ करें या रिस्टार्ट करें तो कंप्यूटर इन फंक्शन को याद रख सके ।

CMOS के कितने नाम है ?

CMOS को हम अलग-अलग नाम से जानते है , जैसे –

CMOS-RAM

NON VOLATILE RAM (NVRAM)

NON VOLATILE BIOS MEMORY

REAL TIME CLOCK (RTC)

CMOS एक मेमोरी होता है और मेमोरी के दो प्रकार होते हैं

1. Volatile

2. Non Volatile

चलिए जानते है मेमोरी के दोनो प्रकार के बारे में की volatile memory क्या होती है और non volatile memory क्या होती हैं ।

VOLATILE MEMORY क्या होती हैं ?

Volatile मेमोरी हम मेमोरी के उस प्रकार को कहते हैं जिसका डाटा कंप्यूटर को पावर ऑफ करने पर भी erase नही होता हैं ।

NON VOLATILE MEMORY क्या होती है ?

Non volatile मेमोरी उसे कहते है जिसका डाटा पावर ऑफ के बाद उसमे से erase हो जाता हैं ।

CMOS एक NON VOLATILE मेमोरी है , अगर CMOS में पावर नही रहेगा तो इसका डाटा इरेज हो जायेगा ।

CMOS का डाटा कभी erase न हो सके इसलिए मदरबोर्ड में इसके लिए एक छोटी बैटरी इंस्टॉल होती हैं जिससे CMOS को हमेशा पावर मिलती रहती हैं , उस बैटरी को CMOS Battery कहा जाता हैं ।

अब हम CMOS बैटरी के बारे में जान लेते हैं की CMOS बैटरी क्या है और CMOS बैटरी कैसे काम करती हैं ।

CMOS बैटरी क्या है ?

हमने आपको बताया हुआ है CMOS बैटरी CMOS को हमेशा चालू रखता है , CMOS में BIOS के साथ time और डेट की सेटिंग भी रहती है और अगर ये बैटरी नही होती तो हमारे कंप्यूटर को बंद करने के बाद टाइम और डेट का डाटा इरेज हो जायेगा , इसी दिक्कत को सुलझाने के लिए CMOS बैटरी को बनाया गया था ।

CMOS की बैटरी बहुत लंबे समय तक चलती है क्योंकि ये कंप्यूटर के मदरबोर्ड में रहती है तो इससे हमेसा बदलते रहना एक बहुत मुस्किल कार्य होता हैं ।

CMOS बैटरी एक लिथियम आयन बैटरी होती है और इसकी लाइफ लगभग 10 साल की होती हैं और अगर CMOS बैटरी खराब हो जायेगी तो आपके कंप्यूटर में अपने से टाइम date रीसेट हो जायेगा और आपके BIOS को सारी सेटिंग डिफॉल्ट पे सेट हो जाती हैं ।

क्या आप जानते है की कंप्यूटर में CMOS की सेटिंग कैसे access करते है ? नहीं , तो चलिए जानते है को आप CMOS सेटिंग को खोल सकते हैं ।

CMOS को access कैसे करें ?

आज के समय में बाजार में क्या ब्रांड के कंप्यूटर और लैपटॉप मिलते है और सभी में CMOS को एक्सेस करने के लिए बटन अलग अलग हो सकते हैं ।

CMOS को एक्सेस करने के लिए कंप्यूटर को ऑन करने के बाद बुटिंग प्रोसेस के समय ही आपको F 1 ,F 2 , F 9,F 10 या Esc इसमें से कोई एक बटन दबाना होता हैं ।

इनमे से कोई एक बटन दबाने के बाद आपकी CMOS की स्क्रीन खुल जाएगी जहां से आप अपने कंप्यूटर की date और time बदल सकते है और कुछ हार्डवेयर सेटिंग्स में बदलाव कर सकते हैं ।

चलिए अब हम BIOS और CMOS के अंतर के बारे में जानते हैं जिससे हमे ये टॉपिक और अच्छे से समझ आ जायेगा ।

BIOS और CMOS में क्या अंतर है ?

BIOS एक Basic input output system होता हैं जिसका मुख्य कार्य कंप्यूटर को स्टार्ट करना होता हैं और ये कंप्यूटर के सभी इनपुट और आउटपुट डिवाइस को मैनेज करता हैं ।

BIOS की मदद से कंप्यूटर को पता चल पता है की इनपुट क्या है और आउटपुट क्या है , BIOS सॉफ्टवेयर मदरबोर्ड में लगाए गए चिप में स्टोर किया जाता हैं ।

BIOS और CMOS में अंतर

1. BIOS और CMOS दोनो अलग अलग कंपोनेंट होते है जो की साथ मिल कर काम करते हैं , BIOS मदरबोर्ड में लगा एक चिप है जिसका काम प्रोसेसर को हार्ड ड्राइव के बीच भेजने का हैं ।

अगर BIOS चिप न होता तो कंप्यूटर ये नही समझ पता की कंप्यूटर के साथ कैसे काम करना है और कंप्यूटर उन्हें समझ नही पाता ।

2. CMOS भी मदरबोर्ड में लगी एक चिप है जिसका काम है कंप्यूटर की कुछ महत्वपूर्ण सेटिंग को स्टोर करना ताकि कंप्यूटर बंद होने के बाद उसे खो न सके ।

CMOS का काम बैटरी के रूप में BIOS की सारी सेटिंग को स्टोर करना होता हैं ।

3. अगर CMOS खराब हो जायेगा तब भी BIOS काम करेगा लेकिन अगर BIOS खराब हो जायेगा तो CMOS भी काम नही करेगा ।

4. CMOS को बैटरी से पावर मिलती हैं और BIOS को CMOS से पावर मिलता हैं ।

ये थे BIOS और CMOS के बीच के कुछ मुख्य अंतर जिसे पढ़ने के बाद CMOS को समझने में और आसानी मिली होगी ।

Source – Youtube

निष्कर्ष – (CMOS फुल फॉर्म इन हिंदी)

हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको CMOS के बारे में समझाने की पूरी कोशिश की है , इस पोस्ट में हमने बताया हैं की CMOS क्या होता है , CMOS कैसे काम करता है और CMOS का फुल फॉर्म क्या होता है और CMOS मीनिंग इन हिंदी क्या है ये सभी सवाल के जवाब दे दिए हैं।

मुझे उम्मीद है की ये पोस्ट पढ़ने के बाद आपको CMOS के बारे में पूरी जानकारी मिल गई होगी लेकिन आपके मन में अभी कोई सवाल है तो हमसे कमेंट में जरूर पूछ सकते हैं ।

हमारे द्वारा दी गयी जानकारी –

1 thought on “CMOS का फुल फॉर्म | CMOS full form in hindi”

Leave a Comment