डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर कैसे बने – पूरी जानकारी

Rate this post

भारत में कलेक्टर का पद इतना सम्मान जनक माना जाता हैं जिससे की कई माता पिता की इछा होती हैं की उनका बच्चा भी कलेक्टर बने और आपने भी कभी न कभी तो ये जरुर सोचा होगा की डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर कैसे बने |

आज के इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले हैं की डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर कैसे बने और साथ में हम आपको कलेक्टर से जुड़ी बहुत सारी जानकारी देंगे ताकि अगर आप कलेक्टर के रूप में अपना करियर देख रहे हैं तो आपको सारी चीजों के बारे में पहले से पता चल जाए |

अगर आप ये चाहते हैं की डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर बनकर नाम कमा सके और अपना करियर बना सके और डिस्ट्रिक्ट के जरिये देश का डेवलपमेंट कर सके तो आप इस पोस्ट को पूरा पढ़े |

कलेक्टर किसे कहते हैं ?

कलेक्टर वो इंसान होता हैं जिसे सेंट्रल गवर्नमेंट हर डिस्ट्रिक्ट में नियुक्त करती हैं और वो इंसान उस डिस्ट्रिक्ट के प्रशासन के ज़िम्मेदारी संभालता हैं |

कलेक्टर का कार्य पब्लिक के सेवा करना होता होता है और कलेक्टर की पोस्ट आईएएस पोस्ट में से एक होती हैं |

कलेक्टर का काम क्या होता है ?

अब हम जान लेते हैं की कलेक्टर का काम क्या होता है , कलेक्टर को बहुत सारे ज़िम्मेदारी के काम दिए जाते है जैसे –

  1. पुरे डिस्ट्रिक्ट के प्रसाशन को संभालना
  2. डिस्ट्रिक्ट के law और आर्डर को सुरछित रखना
  3. डिस्ट्रिक्ट का Land Revenue (भूमि कर) इकठा करना
  4. किसी भी संकट के समय में उसको मैनेज करना या संभालना
  5. पार्लियामेंट , स्टेट और लोकल इलेक्शन को हैंडल करना
  6. सरकारी प्रॉपर्टी को मेन्टेन करना और उसका ख्याल रखना
  7. डिस्ट्रिक्ट के टैक्स रेवेन्यू को मेन्टेन रखना
  8. किसानों के कल्याण का ध्यान रखना
  9. एग्रीकल्चरल लोन का वितरण करना
  10. डिस्ट्रिक्ट के बारे में सारी जानकरी इकठा करना

ये होते हैं कलेक्टर के कुछ मुख्या कार्य , तो चलिए अब हम जानते हैं पूरा प्रोसेस की कलेक्टर कैसे बनते हैं |

कलेक्टर कैसे बने ?

कलेक्टर बनने के लिए आपको civil service exam क्वालीफाई करना होगा जो की UPSC द्वारा लिया जाता हैं |

इस एग्जाम को देने के भी कुछ नियम होते हैं जैसे की –

  • कलेक्टर बनने के लिए उम्मीदवार का भारतीय नागरिक होना ज़रूरी है |
  • अगर आप नेपाल, भूटान या तिब्बत के नागरिक हैं तब भी आप कलेक्टर बन सकते हैं |
सामान्य वर्ग 21 साल – 30 साल
OBC21 साल – 33 साल
SC/ST21 साल – 35 साल
कलेक्टर बनने के लिए आयु सीमा
  • कलेक्टर बनने के लिए उम्मीदवार का ग्रेजुएशन कम्पलीट करना जरुरी हैं और अगर आप ग्रेजुएशन के फाइनल year में हैं तब भी आप UPSC का एग्जाम दे सकते हैं |
  • कलेक्टर बनने के लिए आपको UPSC का CSE एग्जाम पास करना होगा |
  • CSE का मतलब होता हैं All india civil service exam
  • All india civil service exam तीन स्टेज में होता हैं |
Preliminary Exam (प्रारंभिक परीक्षा)
Mains Exam (मुख्य परीक्षा)
Interview Process (साक्षात्कार प्रक्रिया)

चलिए अब इन सभी एग्जाम के बारे में एक-एक करके डिटेल में जान लेते हैं |

Preliminary Exam (प्रारंभिक परीक्षा)

Preliminary Exam (प्रारंभिक परीक्षा) में 200 नंबर के दो पेपर होते है और क्वेश्चन पेपर दो भाषा में होता हैं इंग्लिश और हिंदी |

पहला पेपर ( Current affairs, Indian History और politics ) का होता हैं और दूसरा पेपर ( CSAT- Civil Service Aptitude Test ) का होता है |

पहले पेपर में इन टॉपिक से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं –

Indian history,Indian politics, current events, general science, general issues, Indian geography, World geography, social development, economic development .

दुसरे पेपर में इन टॉपिक से जुड़े प्रश्न पूछे जाते हैं –

Communicational skills, intrapersonal skills, English skills,
English comprehensions, language skill, decision making skills, problem solving ability, mental ability, Basic numeracy.

हर पेपर को हल करने के लिए आपको दो घंटे दिए जाते हैं |

इस एग्जाम में आपसे objective questions पूछे जाते हैं जिसमे नेगेटिव मार्किंग भी होती हैं जिसमे हर गलत उत्तर के लिए 0.33 नंबर कट जाते हैं |

Mains Exam (मुख्य परीक्षा)

प्रारंभिक परीक्षा को पास करने के बाद आप मुख्य परीक्षा के लिए योग्य हो जायेंगे |

मुख्य परीक्षा में पुरे 9 पेपर होते हैं जिनके कुल नंबर 1750 होते है और इस एग्जाम में आपसे वर्णनात्मक सवाल पूछे जाते हैं |

इन 9 पेपर में से 7 पेपर के आधार पर इस एग्जाम का मेरिट बनाया जाता हैं और बाकि दो एग्जाम में आपको minimum अंक लाकर पास हो पड़ता हैं |

ये 2 पेपर अंग्रेजी भाषा के और किसी एक भारतीय भाषा के होते हैं और एक पेपर 300 नंबर का होता हैं |

मुख्य परीक्षा में अन्य 7 पेपर के नाम –

निबंधEssay
(सामान्य अध्ययन) General Studies – 1 भारतीय विरासत और संस्कृति, इतिहास और दुनिया और समाज का भूगोल
(सामान्य अध्ययन) General Studies – 2शासन, संविधान, राजनीति, सामाजिक न्याय
(सामान्य अध्ययन) General Studies – 3प्रौद्योगिकी, आर्थिक विकास, जैव विविधता, पर्यावरण, सुरक्षा और आपदा प्रबंधन
(सामान्य अध्ययन) General Studies – 4नैतिकता, अखंडता और योग्यता
वैकल्पिक पेपर (Optional Paper) -1
वैकल्पिक पेपर (Optional Paper) -2
इनमे से हर पेपर के मार्क्स 250 होते हैं |

अगर आप mains एग्जाम में पास हो जाते हैं तो उसके बाद आप इंटरव्यू राउंड के लिए क्वालीफाई हो जायेंगे |

इंटरव्यू में आपसे कई सारे सवाल पूछा जाता हैं और आपके जवाब के आधार पर आपकी इन स्किल को जज किया जाता हैं –

मानसिक सतर्कता (Mental Alertness)
निर्णय का संतुलन (Balance of Judgement)
आत्मसात करने की महत्वपूर्ण शक्तियां (Critical Powers of Assimilation)
स्पष्ट और तार्किक प्रदर्शनी (Clear and Logical Exposition)
रुचि की विविधता और गहराई (Variety and Depth of Interest)
सामाजिक एकता और नेतृत्व की क्षमता (Ability for Social Cohesion and Leadership)
बौद्धिक और नैतिक अखंडता (Intellectual and Moral Integrity)

इस एग्जाम के 275 अंक होते हैं और ये नंबर फाइनल कट-ऑफ में जुड़ते हैं इसके बेसिस पर मेरिट बनती हैं और जो लोग मेरिट में आते है वो IAS की पोस्ट के लिए सेलेक्ट हो जाते हैं |

एक IAS ऑफिसर अपने 6 साल के सर्विस और 2 से 3 प्रमोशन के बाद डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर बन सकता हैं |

अगर आप SPSC एग्जाम के जरिये IAS ऑफिसर बनते हैं तो आपको कलेक्टर बनने में 20 साल तक लग सकते हैं |

UPSC एग्जाम पुरे इंडिया के लिए एक ही होता हैं जब की SPSC इंडिया में हर स्टेट में होता हैं और इसका full form होता है State Public Service Commission .

SPSC एग्जाम भी UPSC की तरह काफी कठिन एग्जाम होता हैं और इसका सिलेबस भी UPSC एग्जाम से बहुत मिलता जुलता होता है |

डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर की सैलरी कितनी होती है ?

डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर की सैलरी 95000 से 150000 तक होती हैं और साथ में आपको कई सारे और फ़ायदे मिलते हैं , जैसे – महंगाई भत्ता, मकान किराया भत्ता, यात्रा और चिकित्सा भत्ता, सुरक्षा, बिल और पेंशन |

ये थी UPSC एग्जाम के बारे में कुछ जानकरी और अगर आपको upsc के बारे में और कुछ जानना है तो आप UPSC के ऑफिसियल वेबसाइट https://www.upsc.gov.in/ पर जा सकते हैं |

निष्कर्ष ( कलेक्टर कैसे बने ) –

हमने इस पोस्ट में आपको कलेक्टर कैसे बने , कलेक्टर बनने के लिए एग्जाम कौन सा देना होता और कलेक्टर बनने का पूरा प्रोसेस बता दिया हैं |

इस पोस्ट में हमने आपको कलेक्टर बनने के लिए आपको कौन सी पढाई करनी होगी और कलेक्टर की सैलरी कितनी होती हैं इन सभी चीजों के बारे में डिटेल में बताया हैं |

मुझे उम्मीद है की आपको हमारा पोस्ट डिस्ट्रिक्ट कलेक्टर कैसे बने पसंद आया होगा | अगर आपको इस टॉपिक से जुड़े किसी भी सवाल को पूछा हैं तो आप हमे निचे कमेंट करके जरुर बताये |

Leave a Comment