ग्राफिक्स कार्ड क्या होता है – What is Graphic Card in Hindi

आपने कभी न कभी तो अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में गेम जरूर खेला होगा लेकिन क्या आपने ये सोचा है की कंप्यूटर इतने बड़े गेम को इतना आसानी से कैसे चला देता हैं वो भी इतना अच्छा क्वालिटी में ?

इसका जवाब है Graphic Card , आज के इस पोस्ट हम आपको बताएंगे की ग्राफिक कार्ड क्या होता हैं और ग्राफिक कार्ड कैसे काम करता हैं ।

अगर Graphic card के बारे में आप पूरी जानकारी लेना चाहते है तो इस पोस्ट को अंतिम तक जरूर पढ़े ।

ग्राफिक कार्ड क्या होता है ?

ग्राफिक कार्ड कंप्यूटर का एक हार्डवेयर पार्ट होता हैं जो कंप्यूटर या लैपटॉप के मदरबोर्ड से जुड़ा होता हैं ।

ग्राफिक्स कार्ड का काम होता है की वो आपके कंप्यूटर स्क्रीन पर वीडियो और इमेज को अच्छी क्वालिटी में दिखाए ।

ग्राफिक्स कार्ड को हम कुछ और नाम से भी जानते है जैसे – video card, ग्राफिक्स एडाप्टर, video controller

हम अपने कंप्यूटर में जो इमेज और वीडियो देखते हैं या गेम खेलते है ये सब ग्राफिक कार्ड की मदद से ही संभव हो पाता है ।

बहुत सारे कंप्यूटर या लैपटॉप में पहले से ग्राफिक्स कार्ड नही लगे होते है लेकिन आप उन कंप्यूटर्स पर भी फोटों और वीडियो देख सकते हैं बस आपको उसमे picture quality थोड़ा ख़राब मिलेगी ।

हमारे फ़ोन में भी हमे ग्राफिक्स की जरूरत होती इसलिए हमारे फ़ोन में भी Graphics Card लगे होते हैं ।

jjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjjj

What is Graphic Card in Hindi

ग्राफिक्स कार्ड हमारे स्क्रीन में पर सभी पिक्चर और एनीमेशन को प्रद्शित करने का काम करता हैं ।

ऐसा करने के लिए ये कार्ड ग्राफिकल डाटा को सिग्नल में बदलता है जिससे मॉनिटर उस सिग्नल को समझ पाता हैं।

आपका ग्राफिक्स कार्ड जितना बेहतर होगा उतना ही बेहतर आपको आपके स्क्रीन पर इमेज और वीडियो क्वालिटी देखने को मिलेंगी ।

ग्राफिक्स कार्ड का ज्यादातर इस्तेमाल Gamer और Video Editor करते हैं क्योंकि उन्हें अच्छे ग्राफिक्स की जरूरत होती हैं ।

हमने ग्राफिक कार्ड के बारे में सारी बेसिक जानकारी जान ली अब हम जान लेते हैं की ग्राफिक्स कार्ड काम कैसे करता है और इसका इस्तेमाल करना ज़रूरी क्यों होता हैं।

What is Graphic Card in Hindi,graphic card kya kaam karta hai,ग्राफिक्स card क्या होता हैं

ग्राफिक कार्ड काम कैसे करता है?

आप अपने कंप्यूटर में जो भी पिक्चर देखते हैं वो पिक्सल से बने होते है जो को एक छोटे डॉट्स होते हैं ।

आमतौर पर एक स्क्रीन पर 1M पिक्सल दिखाई जाती हैं और कंप्यूटर को यह तय करना होता हैं की हर एक इमेज को बनाने के लिए पिक्सल से साथ कैसे बदलाव किए जाए ।

ऐसा करने के लिए इसे एक ट्रांसलेटर की आवश्कता होती हैं जो CPU से बाइनरी डाटा लेकर इसे एक इमेज में बदल दें जिसे हम देख पाते हैं ।

ऐसा करने के लिए सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन के साथ मिलकर काम करने वाला cpu इमेज के बारे में जानकारी कंप्यूटर में लगे ग्राफिक्स कार्ड को भेजता हैं ।

इमेज बनाने के लिए ग्राफिक्स कार्ड स्क्रीन पर पिक्सल का इस्तेमाल करने का तरीका तय करता है जिसके बाद कार्ड उस जानकारी को एक केबल की मदद से मॉनिटर को भेजता हैं ।

तभी हम मॉनिटर पर किसी भी तरह की इमेज देख पाते हैं, मॉनिटर पर इमेज को दिखाने के लिए जब तक किसी कंप्यूटर में ग्राफिक्स की पावर मदरबोर्ड में निर्मित नही होती तब तक वो ट्रांसलेशन ग्राफिक्स कार्ड पर होता हैं ।

ग्राफिक्स कार्ड कितने प्रकार के होते है ?

ग्राफिक्स कार्ड दो प्रकार के होते है

1. Integrated Graphics Card

2. Discrite Graphics

Integrated graphics card क्या होता है ?

Integrated ग्राफिक्स कंप्यूटर में पहले से ही लगा होता हैं , हम आमतौर पर इंटरनेट सर्फिंग या डॉक्यूमेंट बनाने जैसे कार्यों के लिए इसका इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन हम इससे ज्यादा heavy task नही कर पाते हैं ।

Discrite Graphics card क्या होता है ?

जब हम अपने कंप्यूटर में कोई heavy task करते है या ऐसा कोई काम करते है जिसमे high ग्राफिक्स का काम हो तब हम Discrite Graphics कार्ड का प्रयोग करते हैं ।

ये कार्ड डिवाइस में इनबिल्ड नही होता हैं , discrite का मतलब होता हैं अलग इसलिए Discrite Graphics कार्ड को कंप्यूटर या लैपटॉप में अलग से लगाया जाता हैं।

ये कार्ड अलग से वो लोग लगवाते हैं जिन्हे कोई game खेलना होता है या कोई अच्छी ग्राफिक्स में वीडियो देखना होता हैं ।

इस ग्राफिक कार्ड को लगवाने से आपके कंप्यूटर या लैपटॉप की स्पीड भी बढ़ जाती हैं ।

साधारण काम के लिए या कोई नॉर्मल टास्क के लिए Integrated ग्राफिक्स कार्ड काफ़ी होता हैं ।

कंप्यूटर में पहले से जो ग्राफिक्स कार्ड लगे होते हैं वो ग्राफिक्स की प्रोसेसिंग के लिए उस कंप्यूटर के CPU और RAM का इस्तेमाल करते हैं ।

इसलिए जब है अपने कंप्यूटर में इनबिल्ड ग्राफिक्स कार्ड की मदद से कोई हाई ग्राफिक्स गेम खेलते हैं या कोई हेवी टास्क करते हैं तो हमारा कंप्यूटर hang हो जाता हैं क्योंकि उसके CPU और RAM पर ज्यादा लोड पड़ने लगता हैं ।

अगर आप भी अपने कंप्यूटर को हाई ग्राफिक्स वाला कोई गेम खेलना चाहते हैं या कोई heavy टास्क करना चाहते है तो आप अपने PC में Discrite ग्राफिक्स कार्ड जरूर लगवाए क्योंकि Discrite ग्राफिक्स कार्ड के पास खुद का RAM और प्रॉसेसर होता हैं ।

जिसकी वजह से कंप्यूटर के CPU पर इसका लोड नही पड़ता हैं ।

ग्राफिक्स को चलाने के लिए हमे ज्यादा बिजली की जरूरत पड़ती हैं , बहुत सारे लोग ग्राफिक्स कार्ड का इस्तेमाल cryptocurrency mining के लिए भी करते हैं ।

जैसा कि हमने आपको बताया कि ग्राफिक कार्ड का मुख्य काम होता हैं कंप्यूटर में हाई ग्राफिक्स को दिखाना जिसके लिए इसके अंदर कई सारे कंपोनेंट लगे होते हैं ।

कई सारे ऐसे लोग हैं जो ग्राफिक्स कार्ड का इस्तेमाल तो करते हैं लेकिन उन्हें इसके सारे कंपोनेंट के बारे में नही पता होता हैं ।

चलिए अब हम जान लेते है की ग्राफिक्स कार्ड के अंदर कौन कौन से कंपोनेंट लगे होते हैं ।

ग्राफिक्स कार्ड के पार्ट के नाम –

GPU , VRAM , VRM और कूलर


GPU क्या होता है ?

GPU का full form होता है Graphical Processing Unit

GPU को ग्राफिक्स कार्ड प्रोसेसर भी कहा जाता हैं जो की कंप्यूटर में लगे CPU के सामान होता हैं ।

GPU ग्राफिक्स कार्ड का मुख्य हिस्सा होता है जो कार्ड का विशेष कार्य यानी ग्राफिक्स की प्रोसेसिंग करता हैं ।

आमतौर पर ग्राफिक्स कार्ड में 1 GPU लगे होते हैं लेकिन कुछ ऐसे भी ग्राफिक्स कार्ड है जिनमे 2 GPU भी होते हैं।

VRAM क्या होता है ?

VRAM का फुल फॉर्म होता हैं VIDEO RAM जिसे video memory भी कहा जाता हैं ।

ये ग्राफिक्स कार्ड का दूसरा सबसे महत्वपूर्ण कंपोनेंट है ।

VRAM ग्राफिक्स कार्ड में वो जगह है जहां पर GPU द्वारा प्रॉसेसिंग के लिए ग्राफिक्स डाटा को स्टोर किया जाता हैं ।

GPU जब ग्राफिक्स डाटा को प्रोसेसिंग करके एक इमेज बनाता हैं तो उस बने हुए इमेज को स्टोर करने की जरूरत होती है जिसके लिए GPU ग्राफिक्स कार्ड के मेमोरी का उपयोग करता हैं ।

VRM क्या होता हैं ?

VRM का फुल फॉर्म Voltage Regulator Module होता हैं।

इस काम GPU को पॉवर supply देना होता हैं , हमारे कंप्यूटर में हाई वोल्टेज होता हैं जिसे VRAM कम कर देता हैं ।

VRM और पार्ट्स की तुलना में बहुत जल्दी गर्म हो जाते हैं जिसके लिए उन्हें कूलिंग फैन की जरूरत पड़ती हैं ।

इसलिए हर ग्राफिक्स कार्ड में एक कूलर लगा होता है जो ग्राफिक्स कार्ड के सारे कंपोनेंट को ठंडा रखता हैं ।

निष्कर्ष –

हमने आपको ग्राफिक्स कार्ड क्या होता है और ग्राफिक्स कार्ड का इस्तेमाल क्यों होता हैं इसके बारे में पूरी डिटेल में आपको जानकारी दी हैं ।

मुझे उम्मीद है की आपको ग्राफिक्स कार्ड के बारे में डिटेल में जानकारी मिल गई होगी ।

Leave a Comment