firmware क्या होता है | firmware meaning in hindi

आज हम बार करने वाले है firmware के बारे में और जानेंगे कि firmware क्या होता है , firmware की परिभाषा , firmware कैसे काम करता है और firmware meaning in hindi

कंप्यूटर में बहुत सारे हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर होते है जिनकी मदद से कंप्यूटर यूजर द्वारा दिये गए कार्यों को पूरा कर पाता है ।

हर हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर किसी विशेष कार्यो को करने के लिए बनाया जाता हैं ।

हमने हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बारे में तो बहुत सुना है लेकिन एक और ऐसी चीज़ होती है जिसके बिना कंप्यूटर को शुरू करना असंभव सा है और उसका नाम है फर्मवेयर ।

Firmware के बिना कंप्यूटर काम नही कर सकता और फर्मवेयर का इस्तेमाल सिर्फ कंप्यूटर में नही किया जाता बल्कि firmware का इस्तेमाल बहुत से इलेक्टिकल डिवाइस में किया जाता है ।

जैसे – मोबाइल , स्मार्ट वाच , स्मार्टTV ,वाशिंग मशीन इत्यादि ।

firmware meaning in hindi,Firmware की परिभाषा,Firmware kise kahate hain,firmware update meaning in hindi,firmware version meaning in hindi,firmware

फर्मवेयर का काम बहुत ही छोटा होता है लेकिन ये फिर इन सभी डिवाइस के लिए जरूरी होता है आज हम इसी के बारे में आपको बताएंगे कि फर्मवेयर क्या है और फर्मवेयर कहाँ स्टोर रहता है और फर्मवेयर मीनिंग इन हिंदी ।

Firmware क्या होता है । फर्मवेयर की परिभाषा

अगर आपको फर्मवेयर समझना है तो आपको हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर तो पहले समझना होगा ।

हार्डवेयर कंप्यूटर के वो पार्ट होते है जिनके मदद से एक कंप्यूटर को तैयार किया जाता हैं और हम इन पार्ट्स को देख और टच कर सकते है इन्हें हम फिजिकल पार्ट भी कहते है ।

हार्डवेयर के उदाहरण – कीबोर्ड,माउस,मोनिटर,CPU

सॉफ्टवेयर इंस्ट्रक्शन और प्रोग्राम का एक सेट होता है जो कंप्यूटर को कार्य करने के लिए निर्देश देता हैं।

सॉफ्टवेयर यूजर को कंप्यूटर पर काम करने की योग्यता प्रदान करता हैं ,ऑपरेटिंग सिस्टम इसका एक उदाहरण हैं ।

हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर या दोनों मिल कर एक कंप्यूटर के काम को पूरा करते है और यूजर को आउटपुट देते हैं ।

Firmware क्या होता है | फर्मवेयर meaning in hindi

फर्मवेयर एक प्रकार का सॉफ्टवेयर होता है जो कि हार्डवेयर के एक हिस्से में जुड़ा होता है  ।

फर्मवेयर में किसी भी हार्डवेयर के बेसिक फंक्शन परफॉर्म करने के इंस्ट्रक्शन प्रोग्राम होते है इसी लिए

हम फर्मवेयर को हार्डवेयर के लिए सॉफ्टवेयर भी कह सकते हैं ।

फर्मवेयर एक ऐसा प्रोग्राम है जो हार्डवेयर के साथ जुड़ के आता है मतलब हार्डवेयर के मैन्युफैक्चरिंग के समय उसमे फर्मवेयर को जोड़ दिया जाता हैं ।

कोबोर्ड, ग्राफ़िक कार्ड, वाशिंग मसीन इन सभी चीज़ों में भी firmware पहले से जुड़ा होता हैं ।

फर्मवेयर सॉफ्टवेयर का एक टुकड़ा है जो कि हार्डवेयर का काम करता हैं ।

ये सभी हार्डवेयर डिवाइस को सिस्टम के अन्य डिवाइस के साथ कम्यूनिकेट करने और बेसिक इनपुट आउटपुट टास्क को परफॉर्म करने के लिए इंस्ट्रक्शन देता हैं ।

Firmware के बिना हमारे द्वारा उपयोग किये जाने वाले ज्यादातर इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस काम नही कर सकते हैं क्योंकि हर एक डिवाइस में एक सॉफ्टवेयर इनस्टॉल किया गया है जिसकी मदद से वो यूजर द्वारा दिये गए इनपुट को समझता हैं और उसके अनुसार काम करता है ।

वाशिंग मशीन भी इसका एक उदाहरण होता है जिसमे कुछ बटन होते है जिसके मदद से इसका इस्तेमाल किया जाता हैं और हम अपने जरूरत के अनुसार उससे काम करवाते है और ये सभी चीज़े फर्मवेयर की मदद से ही संभव हो पाती हैं ।

कंप्यूटर में ऑपरेटिंग सिस्टम को लोड करने से पहले फर्मवेयर सभी हार्डवेयर डिवाइस को चेक करता है की वो सही सिचुएशन में है या नही या फिर उसमें कोई  डिफ़ेक्ट तो नही है ये सब चेक करने के बाद ही हमारा कंप्यूटर ओपन होता हैं ।

इन सभी चीज़ों को समझने के बाद अब हम जानेंगे कि आखिर फर्मवेयर कंप्यूटर में कहाँ स्टोर रहता हैं ।

फर्मवेयर कहाँ स्टोर रहता है ?

आपने ये तो जान लिया कि फर्मवेयर क्या होता है और फर्मवेयर का काम क्या होता अब हम जानेंगे कि आखिर फर्मवेयर को कहा स्टोर करके रखा जाता हैं ?

आमतौर पर फर्मवेयर एक विशेष प्रकार के मेमोरी में स्टोर रहता है जिसे हम Flash ROM कहते हैं ।

ROM ( Read Only Memory ) इसमे कंपनी के द्वारा केवल एक बार ही program लिखा जाता है और बाद में जरूरत पड़ने पर इसे दोबारा से लिखा जा सकता है ।

कंप्यूटर डिवाइस को हमारे इनपुट को समझने के लिए ROM की जरूरत होती हैं क्यूंकि इसमे डेटा स्टोर होकर रहता हैं ।

ROM में डेटा तभी स्टोर होकर रहता है जब हमारे डिवाइस को पावर नही मिलती या हमारा डिवाइस बन्द रहता हैं और अगर ROM नही होता तो फर्मवेयर स्टोर नही किया जा सकता था और डिवाइस भी अपना काम नही कर पाता ।

फर्मवेयर को भी अन्य सॉफ्टवेयर की तरह अपडेट करके तैयार किया जाता है ताकि ये पहले से और ज्यादा बेहतर परफॉर्म कर सके ।

तो चलिए अब हम जान लेते है कि फर्मवेयर अपडेट कैसे करे और फर्मवेयर update क्यों करना जरूरी है ?

Firmware Update कैसे करें ?

आपको पता ही होगा आज के समय मे किसी सॉफ्टवेयर को अपडेट करने कितना आसान काम है और फर्मवेयर भी एक तरह का सॉफ्टवेयर है ।

लेकिन क्या आपको पता है 2013 से पहले फर्मवेयर को अपडेट करना संभव नही था और वो सिर्फ एक बार लोड होकर आते थे लेकिन जब कुछ हैकर ने फर्मवेयर को हैक करना शुरू कर दिया तब से फर्मवेयर अपडेट आना शुरू हो गया ।

जब कंपनी को लगता है कि उनके पुराने फर्मवेयर ठीक तरीके से काम नही कर रहे है तो कंपनी उन्हें हार्डवेयर के साथ अपडेट करने की सुविधा प्रदान करवा देती है ताकि फर्मवेयर और एडवांस हो जाये और हमारे द्वारा दिये गए निर्देश को आसानी से समझ पाए ।

फर्मवेयर को अपडेट करने के आप सीधे कंपनी की ऑफिसियल साइट पर जाकर वहाँ से अपडेट version डाउनलोड कर सकते है या आप इसकी cd के मदद से भी इसे अपडेट कर सकते हैं ।

जब आप फर्मवेयर को एक बार अपडेट करेंगे तो आपको अपने कंप्यूटर को रीस्टार्ट करना होगा तब आपके सिस्टम अपडेट हो जाएगा ।

फर्मवेयर को अपडेट करने से पहले आपको ये ध्यान रखना होगा की जब आप फर्मवेयर को अपडेट कर रहें हो तब आपका लैपटॉप या कंप्यूटर पॉवर ऑफ ना हो और आप सिर्फ उन्ही वेबसाइट से जाकर अपने फर्मवेयर को अपडेट करें जो ऑफिसियल साइट्स हो ।

आप कभी भी किसी सॉफ्टवेर को अपडेट करने के लिए थर्ड पार्टी साइट्स की मदद ना ले इससे आपके कंप्यूटर हैक होने का चाँस बढ़ जाता है ।

Firmware update को आप बहुत ही सावधानी से करें क्योंकि अगर आप किसी दूसरे डिवाइस के फर्मवेयर को इनस्टॉल कर लेते है तो आपका डिवाइस बढ़िया से काम नही करेगा इसलिए आप अपने हार्डवेयर का मॉडल नंबर चेक करके उसके लिए फर्मवेयर डाउनलोड करें ।

आप कोशिस करें कि firmware version लेटेस्ट होना चाइये ।

Source – YOUTUBE 

निष्कर्ष ( firmware meaning in hindi )

मुझे उम्मीद है कि आपको firmware kise kahte hai , firmware की परिभाषा और firmware meaning in hindi ये सभी चीज़े समझ मे आ गयी होंगी और आपको firmware update meaning in hindi ,firmware version meaning in hindi ये भी समझ मे आयी होंगी ।

अगर आपको फर्मवेयर के बारे में कोई और सवाल पूछना हो तो आप हमसे कमेंट में पूछ सकते हैं । 

हमारे द्वारा दी गयी जानकारी –

Leave a Comment